कैरी का अचार बनाने की विधि | आम का आचार इस तरह बनायें सालों साल ख़राब नहीं होगा |

Published by vikas_vaani on

कैरी का अचार बनाने की विधि

कैरी का अचार बनाने की विधि |  कैरी (आम) का अचार भारतीय व्यंजनों का एक प्रमुख हिस्सा है। इसे कई तरह से बनाया जाता है और इसका स्वाद खट्टा, तीखा और मसालेदार होता है। आम का अचार गर्मियों के सीजन में बनाया जाता है | आप इसे एक बार बनाके सालों  तक स्टोर कर सकते है | कई बार क्या होता की आप अचार तो बनाते है | पर सही तरीके से नहीं बनाने के कारण अचार ख़राब हो जाता है| और सभी मटेरियल वेस्ट हो जाते है | तो चलिए आज बताएँगे सही तरीके से अचार बनाने के बिधि | जिसे अपना कर आप भी सालों तक रख सकते है | और स्वादिस्ट अचार का मज़ा ले सकते है |

कैरी का अचार बनाने की विधि | (सामग्री )

  • कच्ची कैरी (कच्चे आम)       1 किलो
  • सरसों का तेल –     500 ग्राम
  • नमक –       स्वादनुसार
  • लाल मिर्च पाउडर – 2 चम्मच (बैकल्पिक )
  • हल्दी पाउडर –     2 से 3 चम्मच
  • सौंफ –      50 ग्राम
  • मेथी दाना –     25 ग्राम
  • हींग –      1 चम्मच
  • राई (पीली सरसों) –     50 ग्राम
  • कलौंजी –    25 ग्राम

यह भी पढ़ें – फटाफट घर पर बनाएं सूजी का बाजार जैसा क्रिस्पी डोसा 

कैरी का अचार बनाने की विधि |

सबसे पहले कच्ची कैरी को अच्छे से धो लें।

स्टेप 1  कैरी (आम )को सूखे कपड़े से पोंछकर सुखा लें ताकि उसमें बिल्कुल भी पानी न रहे।
अब कैरी को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। ध्यान रहे कि कैरी के टुकड़े समान आकार के हों।

स्टेप   कटने के बाद कम से कम एक दिन तक धुप में अच्छे से सूखने के लिए छोड़ दीजिये | तब तक मसालों को तैयार कर लीजिये |

मसालों की तैयारी:
स्टेप 3  एक कड़ाई को गरम करें और उसमे  सौंफ, मेथी दाना, कलोंजी और राई को हल्का सा भून लें ताकि उनकी खुशबू आ जाए। अब गैस को बंद कर दीजिये | और उसे ठंडा होने के लिए छोड़ दीजिये | जब ठंडा हो जाये तो उसे मिक्सी में डाल कर दरदरा पीस लीजिये |
स्टेप  4  अब सभी मसालों एक साफ़ बर्तन में डालें और उसमे हल्दी पाउडर , लाल मिर्च पाउडर , हींग ,नमक और कटा हुवा आम का टुकड़ा को डाल दीजिये |
स्टेप  5  अब  सभी मसाले और आम के टुकड़े को अच्छे से मिला लीजिये | ताकि आम के सभी टुकड़ों में मसाले अच्छे से चढ़ जाये |

अचार में तेल डालना:
स्टेप 6  सरसों के तेल को अच्छे से गरम करें और फिर ठंडा होने दें।
ठंडे हुए तेल को कैरी और मसाले के मिश्रण में डाल दें।
तेल इतना डालें कि कैरी के टुकड़े पूरी तरह डूब जाएं। यह अचार को लंबे समय तक सुरक्षित रखता है।
अचार को पकने देना:
अब इस मिश्रण को एक सूखे और साफ कांच के जार में भर दें।
जार को ढक्कन से बंद कर दें और धूप में 3-4 दिनों तक रखें।
हर दिन जार को हल्का-फुल्का हिला दें ताकि मसाले और तेल अच्छे से मिक्स होते रहें।
3-4 दिनों के बाद, आपका कैरी का अचार तैयार हो जाएगा।
अचार का भंडारण:
अचार को एक साफ और सूखे जार में स्टोर करें।
ध्यान रखें कि अचार में हमेशा तेल की मात्रा पर्याप्त होनी चाहिए ताकि वह सुरक्षित रहे और खराब न हो।
आप इस अचार को लंबे समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं। 

  • सुझाव

    अगर आप चाहें तो इस अचार में कुछ और मसाले जैसे जीरा, साबुत धनिया आदि भी मिला सकते हैं।
    अचार बनाने के दौरान पानी का उपयोग न करें, क्योंकि इससे अचार जल्दी खराब हो सकता है।
    अचार को हमेशा सूखे और साफ चम्मच से ही निकालें।

    स्वास्थ्यवर्धक टिप्स:

    कैरी का अचार विटामिन सी का अच्छा स्रोत होता है, जो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।
    सरसों का तेल अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाना जाता है, जो हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।
    मसालों में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण अचार को सुरक्षित रखते हैं और आपको स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं।
    कैरी का अचार बनाना आसान है और इसके लिए ज्यादा समय भी नहीं लगता। सही सामग्री और विधि का पालन करके आप स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक अचार घर पर ही बना सकते हैं। यह अचार चावल, पराठा, रोटी या किसी भी भारतीय भोजन के साथ अच्छी तरह से मेल खाता है।

  • कैरी का अचार बनाने की प्रक्रिया में कुछ सुझावों का पालन करने से आप न केवल इसका स्वाद बढ़ा सकते हैं, बल्कि इसे अधिक समय तक सुरक्षित भी रख सकते हैं। यहाँ कुछ महत्वपूर्ण सुझाव दिए जा रहे हैं:

1. गुणवत्ता पर ध्यान दें:
हमेशा ताजा और बिना कीट लगे कच्चे आम (कैरी) का चयन करें।
मसाले भी ताजे और उच्च गुणवत्ता वाले होने चाहिए।
2. स्वच्छता:
अचार बनाते समय स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें। जार, चम्मच, और अन्य सभी उपकरण पूरी तरह से सूखे और साफ होने चाहिए।
कैरी को धोने के बाद अच्छी तरह से सुखा लें ताकि उसमें पानी की बूंदें न रहें।
3. मसालों का संतुलन:
मसालों का संतुलन बनाए रखें। अधिक मसाले डालने से अचार का स्वाद बहुत तीखा हो सकता है।
यदि आप कम मसाले वाला अचार पसंद करते हैं, तो लाल मिर्च पाउडर की मात्रा को कम कर सकते हैं।
4. तेल का उपयोग:
सरसों के तेल को अच्छी तरह से गरम करके ठंडा करें और फिर अचार में मिलाएं। यह अचार को लंबे समय तक सुरक्षित रखने में मदद करता है।
तेल की मात्रा इतनी होनी चाहिए कि अचार के सभी टुकड़े उसमें डूब जाएं। इससे अचार सुरक्षित रहता है और जल्दी खराब नहीं होता।
5. धूप में पकाना:
अचार को धूप में रखने से उसका स्वाद बढ़ता है और मसाले अच्छी तरह से मिक्स हो जाते हैं।
धूप में रखने के बाद जार को हिलाना न भूलें, ताकि मसाले सभी टुकड़ों पर समान रूप से लगे रहें।
6. भंडारण:
अचार को ठंडी और सूखी जगह पर रखें। नमी अचार को खराब कर सकती है।
हर बार अचार निकालने के लिए साफ और सूखे चम्मच का उपयोग करें।
7. समय-समय पर निरीक्षण:
अचार को समय-समय पर जांचते रहें ताकि किसी प्रकार की फफूंदी या खराबी का पता चल सके।
यदि अचार में किसी प्रकार की गंध या रंग में बदलाव दिखाई दे, तो उसे तुरंत जांचें।
8. अतिरिक्त स्वाद के लिए:
आप अचार में अदरक, लहसुन, या हरी मिर्च भी डाल सकते हैं। यह अचार को एक अनूठा स्वाद प्रदान करेगा।
कुछ लोग नींबू का रस भी मिलाते हैं, जिससे अचार का खट्टापन और बढ़ जाता है।
9. नमक की मात्रा:
अचार में नमक की मात्रा सही होनी चाहिए। नमक प्राकृतिक प्रिजर्वेटिव का काम करता है और अचार को सुरक्षित रखता है।
10. पारंपरिक विधि का पालन:
यदि आप पारंपरिक विधि से अचार बना रहे हैं, तो परिवार के किसी बुजुर्ग सदस्य से सलाह लेना अच्छा रहेगा। उनके पास विशेष टिप्स और ट्रिक्स हो सकते हैं जो अचार को अधिक स्वादिष्ट बना सकते हैं।
इन सुझावों का पालन करके आप कैरी का अचार और भी अधिक स्वादिष्ट और सुरक्षित बना सकते हैं। अचार भारतीय भोजन का महत्वपूर्ण हिस्सा है और सही विधि से बनाने पर इसका स्वाद लंबे समय तक बरकरार रहता है।


vikas_vaani

Vikasvaani.com में स्वागत है । आपका _ मेरा नाम विकाश शर्मा है। और मैं झारखंड के रहने वाला हूं। मुझे प्यार खाने और पकाने के प्रति है। और मैं अपने ब्लॉग के माध्यम से अपने पैशन को साझा करने के लिए हमेशा तत्पर है। मैं अपने ब्लॉग पर विविध प्रकार के स्वादिष्ट खाने के व्यंजनों के साथ ही खाने के तैयारी में मदद करने के टिप्स और ट्रिक्स साझा करते है। email id _ vikasvaani91@gmail.com

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2023-2024 all rights reserved